Whatsapp Shayari

हम आज भी शतरंज़ का खेल अकेले ही खेलते हे क्युकी दोस्तों के खिलाफ चाल चलना हमे आता नही ..।…

20190729 230636

WhatsApp shayari


ज़िन्दगी यूँ मुश्किलातों से ना गुज़रती,
गर, दिल और दिमाग कि दोस्ती हुई होती .

20190729 230950


तेरी बाहों में जो सुकूं था मिला
मैंने ढुंढा बहुत वो फिर ना मिला…

20190729 231220


पल कितने भी गुजार लूं
तेरी बाहों मे यारां,
मगर हर सांस कहती है कि
दिल अभी भरा नही…..!

20190729 231421


सोचा था की बहोत टूटकर चाहोगी तुम हमें,
लेकिन चाहा भी हमने और टूटे भी हम ही।

20190729 231724

WhatsApp shayari In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top