Love Shayari

आग सूरज मैँ होती हैँ जलना जमीन को पडता हैँ, मोहब्बत निगाहेँ करती हैँ तडपना दिल को पडता हैँ.

20190708 111510


नज़र मुझसे मिलाती हो तो तुम शरमा-सी जाती हो, इसी को प्यार कहते हैं इसी को प्यार कहते हैं, जबाँ ख़ामोश है लेकिन निग़ाहें बात करती हैं, अदाएँ लाख भी रोको अदाएँ बात करती हैं, नज़र नीची किए दाँतों में दुपट्टे को दबाती हो, इसी को प्यार कहते हैं इसी को प्यार कहते है.

20190708 111606


गुलाब की खुशबू भी फीकी लगती है, कौन सी खूशबू मुझमें बसा गई हो तुम, जिंदगी है क्या तेरी चाहत के सिवा, ये कैसा ख्वाब आंखों में दिखा गई हो तुम.

20190708 111718


हमारी किसी बात से खफा मत होना, नादानी से हमारी नाराज़ मत होना, पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना, चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना.

20190708 111811


उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है, उनसे कह नही पाना हमारी मजबूरी है, वो क्यूँ नही समझते हमारी खामोशी को, क्या प्यार का इज़हार करना जरूरी है.

20190708 111912

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top