Love Shayari

जब उसकी धुन में रहा करते थे, हम भी चुप चुप जिया करते थे, लोग आते थे गजल सुंनाने, हम उसकी बात किया करते थे, घर की दीवार सजाने के खातिर, हम उसका नाम लिखा करते थे, कल उसको देख कर याद आया हमे, हम भी कभी मोहोब्बत किया करते थे, लोग मुझे देख कर उसका नाम लिया करते थे.

20190706 125027


उसका इल्जाम है वह लगातार ताकता है मुझे, लेकिन यह तो बता की मै ताकता हूँ यह पता कैसे चला तुझे.

20190706 125232

कल हलकी सी बरसात में हो गयी मुलाक़ात उनसे, नज़रों की शबनम ने जैसे कर ली हो हर बात उनसे, उनकी आँखों में थी ऐसी कशिश के क्या कहें, मेरे जिस्म के रोम रोम ने कर ली मोहब्बत उनसे.

20190706 125355


आपकी अदा से हम मदहोश हो गये, आप नॆ पलट कर देखा तो हम बॆहोश हो गये यही एक बात कहनी थी आपसॆ ना जाने क्यूँ आपको दॆखतॆ ही हम खामोश हो गये.

20190706 125442


हर नज़र मुझे एक कशिश होती है, हर दिल मॆ एक चाहत होती है, मुमकीन नही हर एक के लिये ताज महल बनाना पर हर दिल मुझे एक मुमताज रहती है.

20190706 125548

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top